Rishi Kapoor

Author: Sunaina Sarkar


आज हम बात करने वाले हैं ना इसके चॉकलेटी हीरो ऋषि कपूर के बारे में जनेश्वर प्यार से चिंटू जी कहते हैं इन्होंने अपने कमाल के आतंक से लोगों को बहुत एंटरटेन किया है ऋषि कपूर का जन्म 4 सितंबर 1952 (बावन) मुंबई के चेंबूर में हुआ था और उनके पिता उस समय के सबसे बेहतरीन एक्टर्स में से एक थे नाम राज कपूर और उनकी मां भी उस वक्त की मशहूर एक्ट्रेस थी नाम कृष्णा राज कपूर ऋषि कपूर का जन्म एक बहुत ही हो नमन परिवार में हुआ बचपन से ही अपने घर में फिल्मी माहौल देखकर और अपने माता-पिता से प्रभावित होकर उन्होंने भी सोच लिया था कि वह आप पर ही बनेंगे एक बहुत ही दिलचस्प किस्सा है कहा जाता है कि पर मैं जब चिंटू जी को उनकी मां से डांट पड़ती थी तो वह भागकर जाकर आईने के सामने खड़े हो जाते थे और नोटिस करते थे कि वह रोते हुए कैसे लगते हैं जिसे देखकर उनके दादाजी पृथ्वीराज कपूर कहते थे कि यह बड़ा होकर जरूर एक्टर बढ़ेगा ऋषि कपूर ने अपने स्कूलिंग देहरादून के कर्नाल ब्राउन कैंब्रिज स्कूल से और फिर कैंपियन स्कूल मुंबई और मेयो कॉलेज अजमेर से भी वैसे तो यह बात सभी जानते हैं कि ऋषि कपूर ने मेरा नाम जोकर फिल्म से अपने फिल्मी करियर की शुरुआत की थी जिसमे वो किड्स रोल में नजर आए थे उस वक़्त यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर इतना कमाल नहीं दिखा पाई लेकिन ऋषि कपूर के बचपन वाले किरदार ने लोगो के बीच उन्हें चर्चित कर दिया था | इन सब के बाद ऋषि कपूर की बतौर लीड एक्टर फिल्म की बात करे तो एक फिल्म है जिसने हिंदुस्तान के रोमांस सिनेमा का रुख बदल दिया और वह फिल्म की बॉबी ऋषि कपूर की बॉबी  फिल्म जिसमें उन्होंने राज का किरदार निभाय था और उनके अपोजिट श्री डिंपल कपाडिया ….. ऋषि कपूर की एक्टिंग को लोगो दवारा बोहोत पसंद किया और फिर वो दिन भी आया जब ऋषि कपूर को फिल्म बॉबी के लिए साल 1974 (चोहतर) में फिल्म फेयर अवार्ड फॉर बेस्ट एक्टर से भी सम्मानित किया गया और इतना ही नहीं उन्हें 2008 में फिल्म फेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से भी नवाजा जा चुका है एक बार जो ऋषि कपूर के मामले में बहुत फेमस है वह यह है कि जब उन्हें बचपन में किड्स रोल के लिए सिलेक्ट किया गया था जैसे ही यह बात ऋषि कपूर को पता लगी वह सीधा घर आकर एक पेपर पर ऑटोग्राफ देने की प्रैक्टिस करने लगे बॉबी फिल्म के बाद ऋषि कपूर ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और फिर ते वो रुके ही नहीं एक से बढ़कर की ब्लॉकबस्टर फिल्में दी जैसे चांदनी चश्मे को नजर आए थे श्रीदेवी के साथ, अमर अकबर एंथनी जैसमे इनके साथ थे अमिताभ बच्चन और विनोद खनना, प्रेम रोग जिसमें के साथ नजर आइ पदमिनी कोल्हापुरे, हिना, नसीब, कातिलों के कातिल, सागर जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्में करके लोगों के दिलों में अपने लिए एक अहम जगह कायम कर ली ऋषि कपूर ने फिल्मों में ना सिर्फ हीरो विल्लन के रूप में भी काम किया है और वह सारी फिल्में भी सुपर डुपर हिट है जैसे कि अग्निपथ, डी- डेय इंग्लिश ऑफ फिल्मों के सक्सेस का वह अभी जशन मना ही रहे थे कि उन्हें पता चला कि उन्हें कैंसर है जिसका इलाज करवाने के लिए वह न्यूयॉर्क गए थे और वहां से सकुशल वापस भी आ गए थे लेकिन फिर अचानक एक दिन तबीयत बहुत ज्यादा खराब होने से उन्हें 29 अप्रैल 2020 मैं हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया और उन्होंने वहीं पर अपनी आखिरी सांसे ली भले ही ऋषि कपूर ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया है लेकिन वह अपने फैंस के दिलों में सदा के लिए जिंदा रहेंगे |